HindiLawNotes.com

दान पत्र क्या है ? क्या दान पत्र की रजिस्ट्री कराना जरूरी है और उसके नियम क्या है ।

HindiLawNotes.com

यदि संपत्ति आपकी स्व अर्जित संपत्ति है यानी कि सेल्फ एक्वायर्ड प्रॉपर्टी है। जो कि प्रॉपर्टी आपने खुद से कमाई है ।  तो आप ऐसी संपत्ति  किसी को भी दान कर सकते हैं । लेकिन अगर आपकी संपत्ति पुश्तैनी संपत्ति है तो 2005 से  पुश्तैनी संपत्ति में बेटी का भी अधिकार है । यदि आपकी कोई  बेटी है तो आपके पास जितनी भी संपत्ति है उसमें आपकी बेटी का भी हिस्सा है। आप अपना हिस्सा किसी को भी दान दे सकते है।

HindiLawNotes.com

दान पत्र से अचल संपत्ति का हस्तांतरण करना ट्रांसफर ऑफ प्रॉपर्टी माना जाता है । और इसका रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होता है और इसके रजिस्ट्रेशन में उतना ही  खर्च और स्टैंप ड्यूटी लगती है जितना कि आप उस प्रॉपर्टी को बेचते तब लगता । और इसकी जानकारी आप अपने इलाके की सब रजिस्ट्रार के कार्यालय से ले सकते हैं  ।अलग अलग  राज्यों में अलग-अलग स्टांप ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन चार्ज लगते है क्योकि इसकी दरे हर राज्य मे अलग अलग होती है ।

HindiLawNotes.com

अगर आपने एक बार अपनी संपत्ति को दान कर दिया तो अगर आपको बाद में ऐसा लगता है कि यह  सही नहीं है । और आपने उसके नाम संपत्ति को दान करके गलती की है, तो आप उस दान पत्र को रद्द करके संपत्ति को वापस नहीं पा सकते ।