न्याय प्रणाली पर सोशल मीडिया का व्यापक प्रभाव

न्याय प्रणाली पर सोशल मीडिया का व्यापक प्रभाव

सोशल मीडिया आज के समय में इंटरनेट का एक अभिन्न अंग है जो की दुनिया में एक अब से अधिक लोगों के द्वारा उपयोग में लाया जा रहा है जहां पर यह एक ऑनलाइन मंच प्रदान करता है वहीं पर उपयोगकर्ता को यह एक सार्वजनिक प्रोफाइल और सार्वजनिक रूप से वेबसाइट बनाने तथा लोगों के साथ सहभागिता करने की अनुमति भी देता है।

सोशल नेटवर्किंग का उपयोग अपने विचारों को साझा करने तथा पहचान के लोगों तथा अजनबी से बात करने के लिए भी किया जा रहा है उदाहरण के लिए अगर हम बात करें तो जैसा की फेसबुक ट्विटर आदि प्रक्रिया में वेबसाइट पर उपलब्ध उपयोगकर्ता की निजी सूचनाओं भी सजा हो जाती हैं यह प्रक्रिया सूचना प्रौद्योगिकी पर आधारित होती है जहां पर प्रकार से इसमें सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है और इस तरीके लल जहां जहां विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जा रहा है वही पर तकनीकी निर्भरता नहीं समझ नेटवर्किंग स्थल को खतरों के प्रति सुभेद किया जाता है।

सोशल मीडिया का सकारात्मक प्रभाव

सोशल मीडिया दुनिया से जुड़ने का एक माध्यम बन गया है वहीं पर यह बहुत ही महत्वपूर्ण साधन है जिसने की विश्व में संचार को एक नया आयाम प्रदान किया है।

सोशल मीडिया जहां पर एक आवाज बन गया है उन लोगों की जो की सामाजिक लोगों से थोड़ा सा अलग है और जिनकी आवाज को दबा दिया जाता है।

आज के समय में सोशल मीडिया कई व्यवसाईयों के लिए व्यवसाय का एक अच्छा साधन तो कई व्यक्तियों के लिए यह नौकरी का एक रूप है।

See Also  सहायक आत्महत्या और निष्क्रिय इच्छामृत्यु की विधिक जानकारी Assisted suicide or Passive

सोशल मीडिया के साथ ही साथ कई प्रकार के रोजगार उपलब्ध हुए हैं।

का उपयोग आज क्लास नागरिकों के बीच में जागरुकता फैलाने के लिए भी हो रही है।

इसके अलावा कुछ अन्य बातें भी हैं जो कि सोशल मीडिया पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं।

कम्युनिटी से जुड़ना

सोशल मीडिया जहां पर एक और वकीलों और जजों को एक दूसरे से जुड़े रहने में सक्षम बनाता है वहीं पर यह सामाजिक गतिशीलता और समाज को प्रभावित करने वाले मुद्दों को बेहतर समझ के लिए भी जिम्मेदार बनाता है।

कानूनी जागरूकता फैलाना

यह कानूनी जागरुकता के लिए शक्तिशाली करके रूप में कार्य कर रहा है जिसे कि कानूनी जानकारी आम जनता के लिए अधिक सुलभ हो सकती है।

सूचना तक न्याय संगत पहुंच

सोशल मीडिया भौगोलिक सुदूरता के बावजूद सूचना तक सुविधाजनक और न्याय संगत पहुंच सुनिश्चित करता है।

ई सुनवाई और लाइव स्ट्रीमिंग

सोशल मीडिया ने ई सुनवाई और अदालती कार्यवाही को लाइव स्ट्रीमिंग की शुरुआत की है जिससे कि देश में लोगों तक पारदर्शिता और पहुंच को बढ़ावा मिल पाएगा।

सोशल मीडिया का दुरुपयोग

जहां पर बात की जाए सोशल मीडिया पर ज्यादातर वह सामग्री है जो धार्मिक भावनाओं एवं राष्ट्रीय प्रतीकों के अपमान का निषेध करने वाले कानून का उल्लंघन कर रही थी इस अल्प अवधि में बड़ी संख्या में आपत्तिजनक सामग्री का पाया जाना यह दर्शाता है की सोशल मीडिया का दुरुपयोग भी हो रहा है।

जहां पर यह एक और लोगों में जागरूकता फैलाने का काम कर रहा है वहीं पर दूसरी ओर यह ऐतिहासिक तथ्यों को भी तोड़ मनोर करके जनता को पेश कर रहा है यह केवल ऐतिहासिक घटनाओं को अलग रूप नहीं दे रहा है बल्कि आजादी के सूत्रधार रहे नेताओं के बारे में भी गलत जानकारी साझा कर रहा है।

See Also  एस्मा कानून -क्या है। यह कैसे लागू होता है || एस्मा कानून की पूरी जानकारी ESMA Act

अगर हम बात करें विश्व आर्थिक मंच की रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में सोशल मीडिया के माध्यम से गलत सूचनाओं का प्रचार प्रसार बहुत तेजी से उभर रहा है यकीन यह केवल देश की प्रगति में रुकावट है बल्कि यह आवश्यक है कि अगर इसका ध्यान ना रखा गया तो यह भविष्य में एक खतरनाक परिणाम भी सामने आ सकता है इसको पूरी तरीके से रोकने का प्रयास करना चाहिए।

सोशल मीडिया ने समाज के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति को भी समाज की मुख्य धारा से जुड़ने का अवसर प्रदान किया है आंकड़ों की बात करें तो वर्तमान में भारत में तकरीबन ३५० मिलियन सोशल मीडिया यूजर है २०१९ के सर्वे के अनुसार भारतीय उपयोगकर्ता औसत २.4 घंटे सोशल मीडिया पर बिताते हैं।

 सोशल मीडिया अपने आलोचना के कारण भी चर्चा में हमेशा बना रहता है मीडिया भूमिकासोशल मीडिया अपने आलोचना के कारण भी चर्चा में हमेशा बना रहता है मीडिया की भूमिका जहां एक और सामाजिक समरसता को बिगड़ने और सकारात्मक सोच की जगह समाज को बांटने वाली सोच को बढ़ावा देने के लिए हो रही है।

भारत में नीति निर्माता के समक्ष सोशल मीडिया के दुरुपयोग को नियंत्रित करना एक बड़ी चुनौती बन गई है और लोगों के द्वारा इस और गंभीरता से विचार भी किया जा रहा है।

सोशल मीडिया पर ट्रायल कानूनी पैसे और कम्युनिटी मेंबर के मन में नकारात्मक और पूर्वाग्रहित आख्यान पैदा कर सकता है जो कि अक्सर आया फिर अधूरी या गलत जानकारी पर आधारित होती है।

कानूनी पदाधिकारी को तथ्यों की सीमित जानकारी वाले व्यक्तियों से अत्यधिक रोलिंग और आलोचना का सामना करना पड़ सकता है इससे समाज में एक अनुचित सार्वजनिक राय बन सकती है।

See Also  कोई आपको दे रहा धमकी तो जान लीजिए कानून IPC Section guilty of criminal intimidation

अनजाने में सोशल मीडिया का प्रभाव न्यायाधीश की निर्णय लेने की प्रक्रिया में पूर्वाग्रह ला सकता है क्योंकि वह सार्वजनिक भावनाओं के साथ जुड़ने के लिए एक दबाव भी महसूस कर सकते हैं। अगर हम उदाहरण की बात करें तो ज्ञान व्यापी मस्जिद मामले में सोशल मीडिया ने इस मामले को लेकर के सांप्रदायिक समस्या पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी अलग-अलग घटकों ने अलग-अलग व्याख्या की थी जिससे कि न्यायाधीश को धमकियों और सुप्रीम कोर्ट का हस्तक्षेप इसका दुर्भाग्यपूर्ण परिणाम है।

यदि आप इससे संबन्धित कोई सुझाव या जानकारी देना चाहते है।या आप इसमे कुछ जोड़ना चाहते है। या इससे संबन्धित कोई और सुझाव आप हमे देना चाहते है। तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स मे जाकर अपने सुझाव दे सकते है।

हमारी Hindi law notes classes के नाम से video भी अपलोड हो चुकी है तो आप वहा से भी जानकारी ले सकते है। कृपया हमे कमेंट बॉक्स मे जाकर अपने सुझाव दे सकते है।और अगर आपको किसी अन्य पोस्ट के बारे मे जानकारी चाहिए तो आप उससे संबन्धित जानकारी भी ले सकते है

Leave a Comment