Leverage (उत्तोलक) क्या होता है। इसके कितने प्रकार है। operating leverage और financing leverage मे क्या अंतर हैं। combined leverage क्या हैं।

Leverage (उत्तोलक) क्या होता है- Leverage (लीवरेज़ ) एक विधि के रूप मे उधार लेने की छमता है। जिससे कम ब्याज दर के माहौल के दौरान उधार लेने और लंबी अवधि के प्रतिभूतियों में पुनर्निवेश के कारण उच्च दरों का भुगतान करने के द्वारा अपनी संपत्ति का लाभ उठाने के द्वारा अपेक्षित आय बढ़ाने के लिएलीवरेज का उपयोग करने का नकारात्मक पहलू यह है कि जब स्टॉक अथवा ब्रांड मार्केट एक मार्केट नीचा होकर उसके माध्यम से जाते हैं, साथ ही, जब ब्याज दर में वृद्धि होती है, तो लंबी अवधि की प्रतिभूतियां मूल्य में गिर जाएगी, और इस्तेमाल होने वाला लाभ ड्रॉप को बढ़ाना होगा, जिससे निवेशकों के लिए अधिक नुकसान हो सकता है।

लीवरेज एक  ऐसी तकनीक है जो निवेशक लाभ या हानि को बढ़ाती है। लाभप्रद क्षमता (वित्तीय लाभ) को बढ़ाने के लिए उनके  धन के उपयोग का वर्णन करने के लिए इसका उपयोग आमतौर पर किया जाता है, लेकिन यह एक ही लक्ष्य (लीवरेज) प्राप्त करने के लिए निश्चित संपत्तियों के उपयोग को भी दिखाता हैं।

leverage कितना ज्यादा है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसका उपयोग क्या होता है, जिम्मेदारी का उपयोग करते समय लीवरेज एक शक्तिशाली उपकरण हो सकता है।  निवेशक और कंपनियां विस्तार, बचाव और अनुमान लगाने के लिए लीवरेज का उपयोग करती है। लेकिन अधिकतर अपने धन खोने या दिवालियापन में जा सकते हैं।

 

जो एक फर्म वित्त संपत्ति का उपयोग करती है। जब कोई कंपनी, संपत्ति या निवेश को “अत्यधिक लीवरेज्ड” के रूप में संदर्भित करता है,

लीवरेज की अवधारणा का उपयोग निवेशकों और कंपनियों दोनों द्वारा किया जाता है। निवेशक निवेश पर उपलब्ध कराए जाने वाले रिटर्न को बढ़ाने के लिए लीवरेज का उपयोग करते हैं। दूसरे शब्दों में हम यह कह सकते हैं कि पूंजी जुटाने के लिए स्टॉक जारी करने के बजाय, कंपनियां शेयरधारक मूल्य बढ़ाने के प्रयास में व्यावसायिक संचालन में निवेश करने के लिए ऋण का पोषक के रूप मे उपयोग कर सकती हैं। ऐसे निवेशक जो सीधे लीवरेज का उपयोग करने में सहज नहींमहसूस करते हैं।  उनके पास अप्रत्यक्ष रूप से लीवरेज तक पहुंचने के विभिन्न तरीके हैं। वे उन कंपनियों में निवेश कर सकते हैं जो अपने व्यापार के सामान्य पाठ्यक्रम में उत्तोलन(leverage) का उपयोग करते हैं या अपने परिव्यय को बढ़ाए बिना संचालन का विस्तार करते हैं।

See Also  कॉर्पोरेट वित्तीय प्रबंधन क्या होता है? इसकी विस्तृत जानकारी।

Leverage का नुकसान (Disadvantage of leverage)

लीवरेज़ एक बहुआयामी उपकरण है।  वास्तव में यह leverage का उपयोग लाभदायक हो सकता है, लेकिन रिवर्स भी सच है। लीवरेज  लाभ और हानि दोनों को बढ़ाता है। यदि कोई निवेशक निवेश करने के लिए लीवरेज़  का उपयोग करता है और निवेशक के खिलाफ निवेश चलता है, तो उनका नुकसान बहुत अधिक होता है, अगर वे निवेश का लाभ नहीं उठाते।

 

व्यापार की दुनिया में एक कंपनी शेयरधारक धन उत्पन्न करने के लिए leverage  का उपयोग कर सकती है, लेकिन अगर वह ऐसा करने में विफल रहता है,

 

Leverage के प्रकार-

Leverage 3 प्रकार के होते हैं।

 

ऑपरेटिंग लीवरेज

फ़ाइनेंसइंग लीवरेज

कंबाइंड लीवरेज

ऑपरेटिंग लीवरेज- ऑपरेटिंग लीवरेज का मतलब कंपनी के पास तय लागत के प्रतिशत का है। एक अन्य तरीके से बताया, ऑपरेटिंग लीवरेज निश्चित लागत का अनुपात चर लागतों के लिए है|ऑपरेटिंग लीवरेज की तुलना ऐसे  कर सकते हैं,जैसे  जो श्रम गहन फर्म के लिए ऑपरेटिंग लीवरेज के लिए उच्चहोगा उसमे जब  कम होगा श्रमिक गहन कंपनी वह हैं जिसमें उत्पादन प्रक्रिया में अधिक मानव पूंजी की आवश्यकता होती है। खनन को श्रम का गहन माना जाता है क्योंकि खनन में शामिल पैसा बहुत मजदूरों को भुगतान करने के लिए जाता हैहाई ऑपरेटिंग लीवरेज वाली कंपनी में पैसा लगाने के कई फायदे हैं। इन कंपनियों की सेल्स में जितनी बढ़ोतरी होती है।  इसके बाद अतिरिक्त कमाई से उसके मुनाफे में तेज बढ़ोतरी होती है। तब उसे अधिक सेल्स हासिल करने के लिए ज्यादा पैसा खर्च नहीं करना पड़ता।

 

फ़ाइनेंसियल लीवरेज- एक फर्म के संचालन के लिए वित्तीय उत्तोलन जिसको फ़ाइनेंष्यल लीवरेज या ऋण का उपयोग भी कहते हैं। यह इक्विटी पर फर्म की प्रतिफल और प्रति शेयर आय को बेहतर बना सकता है। इसका कारण यह है कि फर्म इक्विटी फाइनेंसिंग का उपयोग करके कमाई को कम नहीं कर रहा है। ये बात अलग हैं कि  बहुत अधिक वित्तीय लाभ उठाने से, डिफ़ॉल्ट और दिवालिया होने के जोखिम का कारण हो सकता है।

See Also  जीएसटी के अंतर्गत दो राज्यों के बीच का व्यापार (अंतरप्रांतीय बिक्री - Interstate Sale)

 

हम एक व्यावसायिक फर्म में वित्तीय उत्तोलन की राशि का निर्धारण करने में उपयोग किए गए वित्तीय अनुपात में से एक ऋण / इक्विटी अनुपात है। ऋण / इक्विटी अनुपात एक व्यवसाय फर्म में इक्विटी में ऋण का अनुपात दर्शाता है।  ‘वित्तीय लीवरेज’ का सिद्धान्त पूँजी-ढाँचे में स्थिर दायित्व उत्पन्न करने वाले पूँजी-साधनों (जैसे ऋण पूँजी) के उपयोग के कारण कम्पनी के लाभों पर पडने वाले प्रभाव की विवेचना करता हैं। जिससे कि  वित्तीय लीवरेज की सीमा को उस अनुपात के द्वारा नापा जा सकता है

कंबाइंड लीवरेज-  कंबाइंड लीवरेज बिज़नस रिस्क को प्रदर्शित करता हैं । क्योंकि इससे फर्म की विनियोजित पूँजी पर लाभ की दर में (विक्रय-आय में होने वाली वृद्धि या कमी की तुलना में) अनुपात से अधिक वृद्धि या कमी होती है । कंबाइंड लीवरेज ऑपरेटिंग लीवरेज और फ़ाइनेंष्यल लीवरेज से मिलकर बना हैं

Leave a Comment